राकेश झुनझुनवाला की सफलता – Rakesh Jhunjhunwala Life Story

Spread the love

फोब्स के नवीनतम अपडेट के अनुसार राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala Life Story) की कुल संपत्ति 5.1 बिलियन है, जो 40000 करोड रुपए से अधिक के बराबर है। तो मुंबई का एक नियमित व्यक्ति केवल ₹5000 के साथ भारतीय इतिहास में सबसे सफल स्टॉप निवेशकों में से एक कैसे बन गया? इसी की हम चर्चा करने जा रहे हैं।

राकेश झुनझुनवाला का जीवन की प्रेरणा से कम नहीं था। दिग्गज निवेशक और भारत के अरबपतियों में से एक के बारे में अज्ञात तथ्य जाने के लिए पढ़ें! दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला अपने पीछे एक विरासत छोड़ गए हैं ।उन्होंने लाखों लोगों को सिखाया कि कैसे सही सोच और दिमागी पर से कोई अरबपति बन सकता है।

उनकी जीवन गाथा पूरे देश और युवा पीढ़ी के लिए एक प्रेरणा है हालांकि कम ही लोग जानते हैं कि राकेश झुनझुनवाला मुंबई का एक नियमित लड़का था । और उसके पास सिर्फ ₹5000 ,वह इतिहास मैं एक सफलता सफल स्टाक निवेशक बन गया था।

दुख की बात है, कि 14 अगस्त 2022 को राकेश झुनझुनवाला का 62 वर्ष की आयु में मुंबई में निधन हो गया, उन्हें कार्डियक अटैक हुआ था । और खबरें आ रही है कि उन्हें कई स्वास्थ्य समस्याएं थी। अरबपति को मुंबई की ब्रिज कैंडी अस्पताल में मृत घोषित कर दिया गया ।

आइए एक नजर डालते हैं राकेश झुनझुनवाला की रेगुलर बाय से लेकर अरबपति बनने तक के सफर पर।

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala Life Story) की सफलता और जीवनी

परिवार

राकेश झुनझुनवाला का जन्म 5 जुलाई 1960 को मुंबई में एक राजस्थानी परिवार में हुआ था। उनके पिता राधेश्याम जी झुनझुनवाला एक आयत कर अधिकारी थे राजस्थानी परिवार में जन्मे राकेश की माता का नाम उर्मिला झुनझुनवाला था। इसके बाद उन्होंने शेयर बाजार में करियर बनाने की इच्छा जताई।

हालांकि उनके पिता ने उन्हें पहले एक कॉलेज से स्नातक की डिग्री प्राप्त करने का सुझाव दिया । राकेश झुनझुनवाला ने 1985 में सिडेनहैम कॉलेज से चार्टर्ड अकाउंटेंट के रूप में स्नातक की उपाधि प्राप्त की।फिर उन्होंने अपनी डिग्री का पीछा करते हुए शेयर बाजार में निवेश करना शुरू कर दिया। 22 फरवरी 1987 गोरखा झुनझुन वाले से उनकी शादी हुई थी और दोनों की एक बेटी और दो जुड़वा बेटे हैं।

बेटी निष्ठा का जन्म शादी के 17 साल बाद 30 जून 2004 को हुआ था और फिर राकेश और रेखा के जुड़वा बेटे आर्यमन और आर्यवीर का जन्म 2009 में हुआ था। वीडियो से बातचीत में राकेश ने अपने परिवार के लिए अपने प्यार का इजहार किया ।

उन्होंने कहा था: – “मैं नहीं जानता कि आप एक पारिवारिक व्यक्ति का वर्णन कैसे करते हैं। लेकिन मैं आपको एक बात बता सकता हूं मेरे लिए मेरे बच्चों से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ भी नहीं है और यह भी कहा कि रेखा झुनझुनवाला (पत्नी) के अलावा मेरे जीवन में कोई भी महिला नहीं है जिसे मैं कभी प्यार कर सकता हूं चाहे जो हो जाए।

राकेश झुनझुनवाला के बड़े भाई राजेश चार्टर्ड अकाउंटेंट है इसके अलावा राकेश झुनझुनवाला की दो बहने भी है। लेकिन उनके बारे में कोई खबर नहीं है वह पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट थे और उन्हें शेयर बाजार की अच्छी जानकारी थी।

राकेश झुनझुनवाला ने अपने पेशेवर सफर की शुरुआत मात्र रु 5000 से की।

राकेश झुनझुनवाला के पिता ने उनके लिए एक मजबूत नीव रखी इससे पहले की उन्होंने अरबपति बनने के बारे में सोचा भी नहीं था। राकेश की पिता ने जोर देकर कहा कि उन्हें अपनी पेशेवर डिग्री पूरी करने के बाद ही अपने सपने का पालन करना चाहिए।

1985 झुनझुनवाला ने देना सिडेनहैम कॉलेज से से पूरा किया। जिसके बाद उन्होंने शेयर बाजार में निवेश करने की इच्छा जताई। इस पर उनके पिता ने कहा अपने दम पर करो और किसी से पैसे मत मांगो यहीं से राकेश के प्रेरक जीवन की शुरुआत हुई थी ।उन्होंने अपने सफर की शुरुआत महज एक रुपए से की थी 5000 .

राकेश झुनझुनवाला का पहला बड़ा मुनाफा

1986 में राकेश टाटा टी के ₹5000 में लाए। 43 प्रति पीस केवल 3 महीने के भीतर स्टॉक बढ़कर रु. 143 और झुनझुन वाले ने 0.5 मिलियन रुपए का अपना पहला बड़ा लाभ कमाया।
जिसके बाद कोई रोक नहीं थी क्योंकि वह ऐसे और व्यापार करता रहा जिससे उसके भारी मुनाफा हुआ।

राकेश झुनझुनवाला का बॉलीवुड से प्यारहर भारतीय की तरह राकेश झुनझुनवाला भी बॉलीवुड के दीवाने थे। वास्तव में उनकी प्यार ने उन्हें बॉलीवुड में निवेश करने के लिए प्रोत्साहित किया और वे दे इंग्लिश विंग्लिश, शमिताभ और की एंड का जैसी फिल्मों के निर्माता बन गए।

खाने के शौकीन थे – राकेश झुनझुनवाला खाने के शौकीन थे

राकेश झुनझुनवाला को स्ट्रीट फूड बहुत पसंद था वह एक विशिष्ट मुंबईकर थे उन्हें पाव भाजी से निर्विवाद प्रेम था, विशेष रूप से उनकी पत्नी रेखा द्वारा पकाई गई। उन्हें डोसा और चाइनीस खाना भी बहुत पसंद था।

शेयर बाजार की दुनिया में प्रवेश

जेसे कि हम उपर पढ़ें कि किस तरह श्री राकेश झुनझुनवाला ने 1985 में सिर्फ ₹5 के साथ शेयर बाजार में प्रवेश किया था। उस समय सेंसेक्स 150 अंक (वर्तमान में सेंसेक्स 58 500 अंग पर मंडरा रहा है) पर था।

फिर भी राकेश झुनझुनवाला जल्द ही सांवली सावधि जमा की तुलना में अधिक रिटर्न देने के वादा करके अपने भाई के एक ग्राहक से 2,5 लाख रुपए की राशि लेने में सक्षम हो गए । राकेश झुनझुनवाला अगले कुछ सालों में शेयरों से कई अच्छा मुनाफा कमाया ।1986-89 के बीच उन्होंने 20- 25 रुपए कमाए।

उनका अगला बड़ा नितेश सेसा गोवा था। जिसे उन्होंने शुरू में ₹28 में खरीदा और फिर ₹35 पर अपना निवेश बढ़ाया ।जल्द ही स्टॉप ₹65 तक बढ़ गया।

राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में मल्टी – बेग्गर्स स्टॉक

राकेश झुनझुनवाला ‘ दुर्लभ उद्यम’ नामक एक निजी स्वामित्व बाली स्टॉक ट्रेडिंग फॉर्म का प्रबंधन करते हैं। यह नाम उनके नाम के पहले दो अक्षर और उनकी पत्नी श्रीमती रेखा झुनझुनवाला के नाम से लिखा गया है। शेयर बाजार मैं अपने लंबे करियर के दौरान राकेश झुनझुनवाला ने कई मल्टीबैगर शेयरों में निवेश किया।

2002-03 राकेश झुनझुनवाला ने ‘ टाइटन कंपनी लिमिटेड’ को ₹3 की औसत कीमत पर खरीदा और वर्तमान में यह 2140 रुपए की कीमत पर कारोबार कर रहा है। उनके पास टाइटन कंपनी के 4,4 करोड़ से अधिक शेयर है ।मार्च 2022 तक कंपनी में उनकी समग्र हिस्सेदारी 5.1% है।

2006 में उन्होंने लयूपिन में निवेश किया और उनकी औसत खरीद मूल्य ₹150 थी आज लयूपिन ₹65 पर कारोबार कर रहा है। राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में कुछ अन्य मल्टी-बैगरस क्रिसिल , प्राज इंडिया,अरबिंदो फार्मर, एनसीसी आदि है।

हाल के घटनाक्रम में राकेश झुनझुनवाला ने एक बार फिर सिर्फ 8 दिनों में 50 करोड़ कमाने के लिए खुशियां बटोरी।

राकेश झुनझुनवाला स्टॉक मार्केट फिलॉसफी


राखी झुनझुनवाला खुद को रीडर और नॉट मिनिस्टर दोनों मानते हैं इकोनॉमिक्स टाइम के अनुसार उनके साक्षात्कार के उधर यहां दिया गया है:- “अल्पकालिक व्यापार अल्पकालिक लाभ के लिए है। लोंग टर्म ट्रेडिंग लॉन्ग टॉम के कैपिटल फॉरमेशन के लिए है।

ट्रेडिंग वह है जो आपको निवेश करने के लिए पूंजी देती है ।मेरा ट्रेडिंग मेरे निवेश को इस अर्थ में भी मदद करता है कि मैं कई बार ट्रेडिंग के लिए बहुत सारे तकनीकी विश्लेषण का उपयोग करता हूं। यदि स्टॉक अधिक है ।तो मुझे बेचना चाहिए लेकिन मेरे व्यापार कौशल मुझे बताते हैं कि स्टॉक अधिक मूल्य वाला रह सकता है। या अधिक अधिक मूल्य प्राप्त कर सकता है। इसलिए मैं अपने निवेश पर कायम हूं।

इसलिए मुझे लगता है कि वह कई मायनों में एक दूसरे के पूरक है लेकिन मैं पूरी तरह से दो अलग अलग डिब्बे हैं।”

राकेश झुनझुनवाला चलाते थे स्टॉक मार्केट

राकेश झुनझुनवाला जी ने भारत में बिगबुल के नाम से भी जाना जाता है वर्तमान में भारतीय अर्थव्यवस्था और भारतीय इक्विटी बाजार के दीर्घकालीन विकास पर बेहद उत्साहित है। हालांकि हर्षद मेहता के दिनों में राकेश झुनझुनवाला कभी भालू थे और उन्होंने हर्षद मेहता घोटाला 1992 के बाद शेयरों को छोटा करके बहुत पैसा कमाया।

वह उस समय के दौरान मनु मानेक और आरके दमानी जैसे अन्य भालू के साथ भालू कार्टेल का हिस्सा थे।


भारत का समर्थन करने वाले बिग बुल राकेश झुनझुनवाला की मौत-

मुंबई :राकेश झुनझुनवाला भारत में गहरा विश्वास था। वह इस बारे में जोश से बात करने के लिए हमेशा तैयार रहते थे कि कैसे इसकी अर्थव्यवस्था और वित्तीय बाजार जल्द ही वैश्विक महाशक्ति ओ की श्रेणी में शामिल हो जाएंगे। अपने 70 साल से स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर भारत ने अपने सबसे बड़े समर्थकों में से एक को खो दिया ।

झुनझुनवाला अरबपति निवेशक, स्टॉक ट्रेडर ,योग्य चार्टर्ड अकाउंटेंट और परोपकारी ,जो हाल ही में भारत की सबसे नई एयरलाइन के सह मालिक बने का पिछले कुछ वर्षों से कई स्वास्थ्य संबंधी मुर्दों से लड़ने के बाद निधन हो गया।

वह 65 वर्ष के थे रविवार की सुबह परिवार के सदस्यों ने झुनझुनवाला को बेहोश पाया और उसे शहर के ब्रीच कैंडी अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उनहाए मृत घोषित कर दिया।
श्रद्धांजलि दी गई । उन्हे ‘ अदम्य’ कहा गया ,पीएम नरेंद्र मोदी उन्होंने कहा कि व जीवन से भरपूर मजाकिया और व्यवहार व व्यवहारिक थे ।

वह वित्तीय दुनिया में एक अमित योगदान छोड़ देता है वह भारत की प्रगति के प्रति भी बहुत भावुक थे। उनका जाना दुखद है। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं। ओम शांति “पीएम ने ट्वीट किया।




Leave a Reply

Your email address will not be published.