द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय (Draupadi Murmu Biography in Hindi)

Spread the love

आदिवासी समुदाय से संबंध रखने वाली और उड़ीसा राज्य में पैदा हुई| द्रौपदी मुर्मू को हाल ही में भारतीय जनता पार्टी के द्वारा भारत के अगले राष्ट्रपति के पद के उम्मीदवार के तौर पर सिलेक्ट किया गया है|और भारतीय राष्ट्र की राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय हम साझा कर रहे है |

इस प्रकार आइए इस आर्टिकल में द्रौपदी मुर्मू के बारे में जानने का प्रयास करते हैं। इस आर्टिकल में हम आपके साथ द्रौपदी मुर्मू की जीवनी शेयर कर रहे हैं।

द्रौपदी मुर्मू का जीवन परिचय (Draupadi Murmu Biography in Hindi)

भारत की पहली आदिवासी राष्ट्रपति के बारे में मै आपसे निम्न बिंदुओ पर चर्चा करने जा रही हूँ, आइये जानते है –

शारीरिक जानकारी

श्रीमती द्रौपदी मुर्मू एक आदिवासी महिला हैं। द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 में एक आदिवासी परिवार में भारत देश के उड़ीसा राज्य के मयूरभंज इलाके में हुआ था। भारतीय जनता पार्टी की सदस्य हैं।

आयु- 64 वर्ष

वजन- 74 किलो

लंबाई- 5 फिट 4 इंच

जाति – अनुसूचित जन जाति

धर्म – हिंदू

राजनीती में प्रवेश

भारतीय जनता पार्टी में 1997 से जुड़ी हुई है ।इस प्रकार से यह एक आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाली महिला है और एनडीए के द्वारा इन्हें भारत के अगले राष्ट्रपति के उम्मीदवार के तौर पर प्रस्तुत किया गया है और यही वजह है कि आजकल इंटरनेट पर द्रोपति मुर्मू की काफी चर्चा हो रही है।

द्रौपदी मुर्मू का परिवार

द्रौपदी मुर्मू के पिता जी का नाम बिरांची नारायण टुडू जी है| द्रौपदी मुर्मू जी के पति का नाम श्याम चरण मुर्मू था। द्रौपदी मुर्मू ने एक बैंकर श्याम चरण मुर्मू से शादी की, जिनकी 2014 में मृत्यु हो गई। दंपति के दो बेटे थे, दोनों की मृत्यु हो चुकी है और एक बेटी है। उसने 2009 से 2015 तक, 7 साल की अवधि में अपने पति, दो बेटों, मां और एक भाई को खो दिया। आध्यात्मिक रूप से मुर्मू ब्रह्म कुमारियों से जुड़े रहे हैं।

स्कूली प्रारंभिक शिक्षा-

जब इन्हें थोड़ी समझ प्राप्त हुई, तभी इनके माता-पिता के द्वारा इनका एडमिशन इनके इलाके के ही एक विद्यालय में करवा दिया गया, जहां पर इन्होंने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई को पूरा किया। इसके पश्चात ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के लिए यह भुवनेश्वर शहर चली गई। भुवनेश्वर शहर में जाने के पश्चात इन्होंने रामा देवी महिला कॉलेज में एडमिशन प्राप्त किया और रामा देवी महिला कॉलेज से ही इन्होंने ग्रेजुएशन की पढ़ाई कंप्लीट की।

स्नातकोत्तर शिक्षा

मुर्मू ने राज्य की राजनीति में प्रवेश करने से पहले एक स्कूल शिक्षक के रूप में शुरुआत की। ग्रेजुएशन की एजुकेशन पूरी करने के पश्चात ओडिशा गवर्नमेंट में बिजली डिपार्टमेंट में जूनियर असिस्टेंट के तौर पर इन्हें नौकरी प्राप्त हुई। इन्होंने यह नौकरी साल 1979 से लेकर के साल 1983 तक पूरी की। इसके बाद इन्होंने साल 1994 में रायरंगपुर में मौजूद अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन सेंटर में टीचर के तौर पर काम करना चालू किया और यह काम इन्होने 1997 तक किया।

द्रौपदी मुर्मू का काम

मुर्मू ने राज्य की राजनीति में प्रवेश करने से पहले एक स्कूल शिक्षक के रूप में शुरुआत की। ग्रेजुएशन की एजुकेशन पूरी करने के पश्चात ओडिशा गवर्नमेंट में बिजली डिपार्टमेंट में जूनियर असिस्टेंट के तौर पर इन्हें नौकरी प्राप्त हुई। इन्होंने यह नौकरी साल 1979 से लेकर के साल 1983 तक पूरी की। इसके बाद इन्होंने साल 1994 में रायरंगपुर में मौजूद अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन सेंटर में टीचर के तौर पर काम करना चालू किया और यह काम इन्होने 1997 तक किया।

द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक जीवन

  1. द्रौपदी मुर्मू ओडिशा में मयूरभंज जिले के रायरंगपुर की एक आदिवासी नेता हैं। मुर्मू 1997 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुए और रायरंगपुर नगर पंचायत के पार्षद के रूप में चुने गए।
  2. मुर्मू 2000 में रायरंगपुर नगर पंचायत के अध्यक्ष बने। उन्होंने भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया।
  3. ओडिशा में भाजपा और बीजू जनता दल गठबंधन सरकार के दौरान, वह 6 मार्च, 2000 से 6 अगस्त, 2002 तक वाणिज्य और परिवहन के लिए स्वतंत्र प्रभार के साथ राज्य मंत्री और 6 अगस्त, 2002 से मत्स्य पालन और पशु संसाधन विकास राज्य मंत्री थीं।
  4. उड़ीसा गवर्नमेंट में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर द्रौपदी मुर्मू को साल 2000 से लेकर के साल 2004 तक ट्रांसपोर्ट और वाणिज्य डिपार्टमेंट संभालने का मौका मिला।
  5. इन्होंने साल 2002 से लेकर के साल 2004 तक उड़ीसा गवर्नमेंट के राज्य मंत्री के तौर पर पशुपालन और मत्स्य पालन डिपार्टमेंट को भी संभाला।
  6. साल 2002 से लेकर के साल 2009 तक यह भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर भी रही।
  7. भारतीय जनता पार्टी के एसटी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के पद को इन्होंने साल 2006 से लेकर के साल 2009 तक संभाला।
  8. एसटी मोर्चा के साथ ही साथ भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर के पद पर यह साल 2013 से लेकर के साल 2015 तक रही।
  9. एसटी मोर्चा के साथ ही साथ भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर के पद पर यह साल 2013 से लेकर के साल 2015 तक रही।

झारखंड के राज्यपाल

मुर्मू ने 18 मई 2015 को झारखंड के राज्यपाल के रूप में शपथ ली, वह झारखंड की पहली महिला राज्यपाल बनीं। झारखंड सरकार में राज्यपाल के रूप में छह साल के अधिकांश कार्यकाल के लिए भाजपा सत्ता में थी। उनके पूरे कार्यकाल में केंद्र सरकार में भाजपा सत्ता में थी।

भाजपा के एक पूर्व राजनेता रतन तिर्की ने कहा कि मुर्मू ने यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त नहीं किया कि आदिवासी समुदायों को दिए गए स्वशासन के अधिकार ठीक से लागू हों। ये अधिकार पांचवीं अनुसूची और पंचायत (अनुसूचित क्षेत्रों में विस्तार) अधिनियम, 1996 या पेसा के तहत दिए गए थे।

टिर्की ने कहा, “कई अनुरोधों के बावजूद, तत्कालीन राज्यपाल ने कभी भी पांचवीं अनुसूची के प्रावधानों और पेसा को अक्षरश: लागू करने के लिए अपनी शक्तियों का प्रयोग नहीं किया”।

– Tikri

आदिवासी भूमि कानून संशोधन के खिलाफ पत्थलगड़ी आंदोलन

मुख्य लेख: पत्थलगड़ी आंदोलन
2017 में, रघुबर दास मंत्रालय छोटानागपुर टेनेंसी एक्ट, 1908 और संथाल परगना टेनेंसी एक्ट, 1949 में संशोधन की मांग कर रहा था। इन दो मूल कानूनों ने आदिवासी समुदायों के उनकी भूमि पर अधिकारों की रक्षा की थी। मौजूदा कानूनों के अनुसार भूमि का लेन-देन केवल आदिवासियों के बीच ही किया जा सकता था।

नए संशोधनों ने आदिवासियों को सरकार को आदिवासी भूमि का व्यावसायिक उपयोग करने और आदिवासी भूमि को पट्टे पर लेने की अनुमति देने का अधिकार दिया। मौजूदा कानून में संशोधन के प्रस्तावित विधेयक को झारखंड विधानसभा ने मंजूरी दे दी है। नवंबर 2016 में बिल मुर्मू को अनुमोदन के लिए भेजे गए थे।

आदिवासियों ने प्रस्तावित कानून का कड़ा विरोध किया था। पत्थलगड़ी विद्रोह के दौरान, काश्तकारी अधिनियमों में प्रस्तावित संशोधनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किए गए। एक घटना में विरोध हिंसक हो गया और आदिवासियों ने भाजपा सांसद करिया मुंडा की सुरक्षा टुकड़ी का अपहरण कर लिया। पुलिस ने आदिवासियों पर हिंसक कार्रवाई का जवाब दिया, जिससे एक आदिवासी व्यक्ति की मौत हो गई।

आदिवासी अधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी सहित 200 से अधिक लोगों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज किए गए थे। आंदोलन के दौरान आदिवासियों के खिलाफ पुलिस की आक्रामकता पर उनके नरम रुख के लिए मुर्मू की आलोचना की गई थी।

महिला आदिवासी अधिकार कार्यकर्ता अलोका कुजूर के अनुसार उनसे आदिवासियों के समर्थन में सरकार से बात करने की उम्मीद की गई थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ| और इसके बजाय उन्होंने पत्थलगड़ी आंदोलन के नेताओं से संविधान में विश्वास करने की अपील की। ​​

मुर्मू को बिल में संशोधन के खिलाफ कुल 192 ज्ञापन मिले थे. तब विपक्ष के नेता हेमंत सोरेन ने कहा था कि बीजेपी सरकार कॉरपोरेट्स के फायदे के लिए दो संशोधन विधेयकों के जरिए आदिवासी जमीन का अधिग्रहण करना चाहती है. विपक्षी दलों झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस, झारखंड विकास मोर्चा और अन्य ने बिल के खिलाफ तीव्र दबाव डाला था।

24 मई 2017 को, मुर्मू ने बिलों को मंजूरी देने से इनकार कर दिया और उन्हें प्राप्त ज्ञापनों के साथ राज्य सरकार को बिल वापस कर दिया। बाद में अगस्त 2017 में बिल को वापस ले लिया गया।

द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति उम्मीदवार घोषित होना

अभी तक काफी लोग द्रौपदी मुर्मू के बारे में नहीं जानते थे परंतु हाल ही में चार-पांच दिनों से यह काफी चर्चा में हैं। लोग इंटरनेट पर यह सर्च कर रहे हैं कि द्रोपदी मुर्मू कौन है तो बता दे कि द्रौपदी मुरमू झारखंड की राज्यपाल रह चुकी है।

इसके अलावा यह एक आदिवासी महिला है। इन्हें एनडीए के द्वारा हाल ही में भारत के अगले राष्ट्रपति के उम्मीदवार के तौर पर घोषित किया गया है।

इस प्रकार अगर द्रौपदी मुर्मू भारत की राष्ट्रपति बनने में कामयाब हो जाती है, तो यह पहली ऐसी आदिवासी महिला होगी, जो भारत देश की राष्ट्रपति बनेगी, साथ ही यह दूसरी ऐसी महिला होंगी, जो भारत देश के राष्ट्रपति के पद को संभालेंगी। इसके पहले भारत देश के राष्ट्रपति के पद पर महिला के तौर पर प्रतिभा पाटिल विराजमान हो चुकी है।

द्रोपदी मुर्मू को प्राप्त पुरस्कार

द्रौपदी मुरमू को नीलकंठ पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए साल 2007 में प्राप्त हुआ था। यह पुरस्कार इन्हें ओडिशा विधानसभा के द्वारा किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.