महाराणा प्रताप

Spread the love

जन्म :- महाराणा  प्रताप  का  जन्म  9  मई  1540  को  राजस्थान  के  कुम्भलगढ़  में  हुआ  था  । उनके  पिता महाराजा  उदयसिंह  और  माता  रानी  जेवंता  बाई  थी  वे राणा  सांगा  के  पौत्र  थे ।  महाराणा  प्रताप  को  बचपन में  सभी  कुंवर प्रताप  बोलते  थे ।

राज्याभिषेक :- महाराणा उदयसिंह ने अपनी मृत्यु के समय अपने छोटे पुत्र जगमाल को गद्दी सौंप दी थी । जगमाल ने राज्य का शासन हाथ में लेते ही घमंडवास जनता पैर अत्याचार करना शुरू कर दिया जगमाल बेहद डरपोक और भोगी विलासी था । जगमाल अकबर के अधीन रहकर अपने राज्य का संचालन कर रहा था । तब राजपूत सरदारों ने मिलकर 1 मार्च 1576 को महाराणा प्रताप को मेवाड़ की गद्दी पैर बैठाया ।

कुलदेवता :-  उनके कुलदेवता एकलिंग महादेव है । मेवाड़ के राणाओ के आराध्यदेव एकलिंग महादेव का मेवाड़ के इतिहास में बहुत महत्व है । एकलिंग महादेव  का मंदिर उदयपुर में  है । मेवाड़ के संस्थपाक बप्पा रावल ने 8 वी शताब्दी में इस मंदिर का निर्माण करवया था ।

हल्दीघाटी का युद्ध :- हल्दीघाटी का युद्ध 18 जून 1576 को महाराणा प्रताप व अकबर के सेनापति के मानसिंह  बीच हुआ था । इस युद्ध में महाराणा प्रताप करीब 20 हजार राजपूतो के साथ मानसिंह के 80 हजार सेना का सामना किया । इस युद्ध में महाराणा प्रताप का प्रिय घोड़ा चेतक की मृत्यु हो गया था । राजपूतो ने बहादुरी के साथ मुगलो का मुकाबला किया परन्तु मैदानी तोपों व बंदूकधारियों से सुशज्जित शत्रु की विशाल सेना के सामने समूचा पराक्रम निष्फल रहा । इस युद्ध में महाराणा प्रताप की हार हुई तथा उदयपुर को गवाना पड़ा । बाद में महाराणा प्रताप अपनी सेना सुस्जित करके उदयपुर को फिर से हासिल किया ।

मृत्यु :- 19 जनवरी 1597 महाराणा प्रताप की मृत्यु उदयपुर में हुई ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.