पटरी के बीच में गिट्टी क्यों भरा जाता है

आप सभी ने रेल गाड़ी देखी होगी और उसमें सफर भी किया होगा| आपने देखा होगा कि रेल की पटरियों पर गिट्टी बिछी होती है, उसे देखकर आपके मन में कभी सवाल आया है, की पटरी के बीच में गिट्टी क्यों भरा जाता है|

आज हम आपको बताएंगे रेल की पटरी के बीच में गिट्टी क्यों भरा जाता है, तो चलिए जानते हैं।

जब ट्रेन का आविष्कार हुआ था| तभी से पटरी पर गिट्टी बिछाया जाता है, रेल की पटरी जितनी साधारण दिखती है उतनी वह साधारण नहीं होती है| रेलगाड़ी बहुत लंबी होती है और उसका वजन 1000000 किलोग्राम तक होता है।

पटरी के नीचे का हिस्सा कांक्रीट से बना होता हैं, जिसे स्लीपर कहा जाता है| इन स्लीपर के नीचे पत्थर मतलब गिट्टी बिछाई जाती है, इसे ब्लास्ट कहते हैं| इसके नीचे दो अलग-अलग तरह के लेयर में मिट्टी होती है, और इसके नीचे साधारण जमीन होती है। हममें से ज्यादातर लोगों को यह लगता है, कि पटरी को साधारण जमीन में बिछाया जाता है, लेकिन ऐसा नहीं होता है|

अगर आप पटरी को ध्यान से देखेंगे तो आपको पटरी साधारण जमीन से ऊपर नजर आएगा, लोहे की बनी ट्रेन के वजन को सिर्फ पटरी नहीं संभाल सकती| ट्रेन के वजन को संभालने के लिए लोहे के ट्रैक कंक्रीट के बने स्लीपर और पत्थर तीनों का योगदान होता है।

1. पत्थर का उपयोग –

वैसे देखा जाए तो सबसे ज्यादा लोड पत्थरों पर होता है| पत्थरों के वजह से ही कांक्रीट अपने जगह से नहीं हिलते हैं| रेलवे ट्रैक पर बिछाई जाने वाली गिट्टी खास तरह की होती है, अगर गिट्टी की जगह गोल पत्थरों का उपयोग किया जाए, तो वह फिसलने लगेगी जिसे लोहे का ट्रैक एक जगह उपस्थित नहीं रह पाएगा|

इसलिए पटरी में रफ, नुकीले पत्थरों का उपयोग किया जाता है, गिट्टी नुकीले होने के कारण एक-दूसरे से मजबूत पकड़ बना लेते हैं| जब ट्रेन पटरी से गुजरती है, तो यह पत्थर आसानी से ट्रेन के भार को संभाल लेते हैं।

2. गिट्टी डालने का कारण –

i. ट्रैक पर लगे पत्थर, कंक्रीट के बने स्लीपर को एक जगह स्थित रहने पर मदद करती हैं| यदि पटरी पर यह पत्थर नहीं होंगे, तो कांक्रीट के स्लीपर एक जगह नहीं रह पाएंगे और ट्रेन का भार संभाल नहीं पाएंगे।

ii. यदि ट्रैक पर गिट्टी नहीं बिछाई जाएगी तो उसमें घास उग जाएगा जिसके कारण ट्रेन चलाने में कठिनाई होगी इसलिए गिट्टी बिछाया जाता है।

iii. जब पटरी पर ट्रेन चलती है, तो कंपन पैदा होती है. जिसके कारण पटरियों की फैलने की संभावना बढ़ जाती है|तो कंपन कम करने के लिए और ट्रैक को फैलने से बचाने के लिए पत्थर का उपयोग किया जाता है।

आपको हमारी यह जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

Manisha Rajput

Hello! I'm Manisha Rajput. I love write about amazing unknown facts which is useful in practical life!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *