कम उम्र में बने शतरंज ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानंद

Spread the love

आज हम बात करने वाले है चाइल्ड ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानंद जिन्होने ग्रैंडमास्टर का ख़िताब जीता तो चलिये जानते है प्रज्ञानंद के बारे में –

इस 16 वर्षीय खिलाड़ी ने वर्ल्ड चैंपियन नार्वे के मैगनस कार्लसन को ऑनलाइन रैपिड शतरंज मास्टर्स के आठवें दौर में पराजित किया । प्रज्ञानंद दिग्गज खिलाड़ी विश्वनाथ आनंद और पी हरिकृष्णा के बाद ऐसे तीसरे भारतीय है जिसने गत विश्व चैम्पियन कार्लसन को पराजित किया है ।

चेन्नई के प्रज्ञानंद ने 2018 में प्रतिष्ठित ग्रैंडमास्टर ख़िताब हासिल किया प्रज्ञानंद यह उपलब्धि हासिल करने वाले भारत के सबसे कम उम्र के और उस समय दुनिया में दूसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी है । प्रज्ञानंद सबसे कम उम्र के ग्रैंडमास्टर की सर्वकालिक सूचि में पाँचवे पायदान पर है ।

प्रज्ञानंद को अपनी माँ का पूरा सपोर्ट मिला वह टूर्नामेंट में कभी कभी प्रज्ञानंद के साथ या घर पर रहकर उनके मुकाबले देखा करती थी ।

भारत के दिग्गज खिलाड़ी विश्वनाथन आनंद ने उसका मार्गदर्शन किया है प्रज्ञानंद को क्रिकेट काफी पसंद है और उन्हें जब भी मौका मिलता है वह मैच खेलने के लिए जरूर जाते है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.